हमें अगर अपने संस्थान पर नियंत्रण रखना है या अपना वर्चस्व बनाए रखना है या अपने नेतृत्व के प्रति पूरे संस्थान का विश्वास कायम रखना है, तो आवश्यक है कि सर्वोच्च व्यक्ति ज्ञान, कल्पनाशीलता और सत्यनिष्ठा में उदाहरण प्रस्तुत करे. जहां यह नहीं होगा, वहां पर लोग आदेश मानते तो दिखाई देंगे, लेकिन उनमें न विश्वास […]

नितिन गडकरी दरअसल देश को ये बता रहे थे कि देश में जितनी आशा जगी है, वो इसलिए जगी है क्योंकि हमने इतने ज्यादा वादे कर लिए और हमें पता ही नहीं था कि केंद्र में हमारी सरकार बनेगी. महाराष्ट्र का चुनाव देश का भविष्य बदलने वाला चुनाव नहीं था. भाषाओं के ऊपर लोगों को […]

आज की भारतीय जनता पार्टी के नेता ये भूल गए हैं कि कैसे नानाजी देशमुख को जेपी का प्यार मिला और नानाजी देशमुख ने उस प्यार के सहारे कैसे अटल बिहारी वाजपेयी जी और लालकृष्ण आडवाणी को जयप्रकाश जी के साथ खड़ा होने का आदेश दिया. लालू प्रसाद यादव सहित मुलायम सिंह यादव का भी […]

ये 2018 का वर्ष चल रहा है. हिंदुस्तान में यह उत्साह का वर्ष होना चाहिए था. लेकिन यह वर्ष उन लोगों के लिए क्यों ऐसा वर्ष बन रहा है, जिनके ऊपर सबसे ज्यादा भरोसा था और अब उन्हीं का सबसे ज्यादा मजाक सोशल मीडिया पर उड़ रहा है. ऐसे में एक भारतीय कंपनी के प्रोडक्ट […]

प्रधानमंत्री मोदी इस मामले में सचमुच बहुत भाग्यशाली हैं कि उन्होंने देश में एक ऐसा समर्थक वर्ग तैयार कर लिया है, जिसकी आंखों पर सिर्फ और सिर्फ नरेंद्र मोदी का चश्मा है. उसे सरकार के किए गए वादे कभी याद नहीं आते. सरकार ने क्या-क्या काम किए, इसकी फेहरिस्त उन्हें याद नहीं है. सरकार के […]

कल्पेश याग्निक एक ऐसे पत्रकार थे, जो स्वयं में एक संस्था थे. कल्पेश याग्निक ने विश्वविद्यालय की खबरों से जिंदगी शुरू की और भास्कर जैसे हिंदी के प्रसिद्ध अखबार के ग्रुप एडिटर बने. कल्पेश याग्निक की आत्महत्या ने मनोवैज्ञानिक सवाल तो खड़े किए ही, संस्थान की निर्ममता पर भी कई सवाल खड़े किए. अब जब […]

अब देश को सीधे रास्ते पर चलना ही चाहिए. आखिर 70 सालों से यह देश गलत रास्ते पर चल रहा था. इन दिनों देश की जनता के दिमाग का पैमाना सोशल मीडिया है. इसे प्रधानमंत्री जी ने देश की मिजाज जानने का एक बैरोमीटर बना रखा है. दूसरी तरफ संघ प्रमुख मोहन भागवत जी के […]

नए-नए शब्द हमारे सामने आते रहते हैं. अब एक नया शब्द आया है, अर्बन नक्सलिज्म. इस शब्द को गढ़ने वाली एक महिला हैं, जो स्वयं हिंदू कोर्ट की स्वयंभू जज बनी हुई हैं. अभी तक किसी ने भी यह सवाल नहीं उठाया कि ये हिंदू कोर्ट क्या है और इसकी ये महिला सर्वोच्च जज कैसे […]

अगर सोशल मीडिया देश का दिमाग समझने का पैमाना है तो मान लेना चाहिए कि देश का दिमाग बदल गया है. सोशल मीडिया से मतलब फेसबुक, ट्‌वीटर और वाट्‌सअप पर चलने वाले संदेश हैं. पहले देश में माना जाता था कि जो वंचित हैं, जो गरीब हैं, जो सताए हुए हैं, जो निर्बल हैं, जो […]

श्री कुलदीप नैयर इस दुनिया को अलविदा कह गए. बहुत सारे लोगों ने कुलदीप नैयर को याद किया और उन्हें भरी आंखों से विदा किया. कुलदीप नैयर का जाना इतिहास के एक ऐसे अध्याय का बंद होना है, जो अध्याय जीवन के संघर्ष को, विचारधारा को, जनाभिमुख पत्रकारिता को और पत्रकारिता की शान को जीवित […]